How to Become A Doctor After 12th In India ?

Doctor, when we hear this word, some good Feelings get walk in our mind to this word.

Every parents has a dream that their son/daughter become a Doctor. Bcoz doctor is known as second God.


A common Question in India Is that how to become a doctor after 12th Class in India ?

You've same question ?? Then You're at right place.


In this article I'm gonna clear your all Doubts regarding this. So let's start.



 Biology in 11th & 12th

First Of All, your optional subject Should be Biology in 11th & 12th, and you must get 50%+ Marks in 12th to do so. You can have Mathematics as an additional subject but Biology is compulsory.


MBBS Course -

Bachelor Of Medicine & Bachelor Of Surgery (MBBS) . It's a Approx 4.5 year course (in India) after undergoing this course you'll be licensed to practice medicine as a Physician across whole world.


After MBBS , you'll be able to prescribe medicine, do general surgery etc. After 4 years , you're given one year Internship , after which you'll get license to do practice.


Does Marks in 12th Matter ?

Many students think that if they don't get good marks , they can't become a Doctor, but guess it's wrong. Marks in 12th Class has no relation with becoming a Doctor.


 Medical Colleges in India

There are there types of Medical Colleges in India. What are those ?

Private Medical Colleges
Semi Government Colleges
Government Colleges

These types are based on Fees of Medical Colleges , some Medical Colleges are also there other than these three types.

Armed Forces Medical College
AIIMS
JIPMER
AMU
These Colleges are under autonomous bodies but fees are very low.


 How to Get Admission in These Colleges

There is A National Level Exam Known as NEET (Nation Eligibility cum Entrance Test) which is Conducted by NTA. Anyone Having Biology In 12th Class Can Appear in this exam. Some age limit is there, that age Should be between 17-25 years.


Now in NEET, 180 Questions are asked  , each having 4 Marks, and for a wrong answer, 1 marks will be deducted from current Marks.


90 Questions from Biology
45 from Chemistry
45 from Physics

For Admission In Private Colleges -

For Admission in private Colleges, you've to score about 140 Marks and you'll get admission in private College easily but it's fee and other expenses are very high and a middle class family can't afford it.


For Admission in Government Colleges -

If you want admission in Government College, then you've to Socre good marks. Look , we can't commit marks , but If You Belong to General/OBC Category , then you have to score 600+ marks out of 720 . And if you belong to SC Category then 470+ is marks for you and for ST , It's 430+..


For Semi Government -



Marks required are just 4-5 marks than Cutt off of government College. Benefit of semi Government College is that you don't have to pay donation fees.
Share:

How To Use Bitcoin

A relatively new, high-risk industry, which can be challenging to find the right banking partners for your Bitcoin merchant account. A global leader in merchant services, with highly competitive internet merchant account services, bitcoin payment processors at extremely competitive rates. Through our trusted domestic and offshore banking partners, we help set up Bitcoin merchant accounts while saving the company's money on processing fee. Get paid in bitcoin! We have always offered merchants the choice of payment in their common currency. Now, we can provide a refund in bitcoin. What is bitcoin? Perhaps the most discussed financial news item in the last ten years is Bitcoin Digital, Peer-to-Peer Currency,





which is known as Satoshi Nakamoto in 2009. Like gold,
bitcoin is mined by solving a sophisticated mathematical algorithm in a personal computer and found in blocks. Bitcoin is stored, sent, and received using the e-wallet. Bitcoin merchant benefits include secure, person-to-person transfers; No credit/debit card or PIN access; Convenient storage on your PC or smartphone; And the public, detectable transactions that help in preventing fraud. How do I get a Bitcoin merchant account? Talk directly to a merchant account manager at 1-800-318-2713, or click on the '
Apply Now' button to get started. We offer the following solutions for traders looking for a bitcoin payment processor Offshore Bitcoin Merchant Account (with payment processing history) Minimum of six months of payment processing details with the name of the company showing the chargeback, refund, returns, and total sales.
Six-month Business Banking Statement Approvals: from 10 business days to two weeks Offshore Start-Up Bitcoin Merchant Account We do not currently have any solutions for start-up bitcoin merchant accounts. Timetable for Bitcoin merchant accounts We often offer offers to our rivals for 1-2 business days,
even for offshore merchant accounts. For 99 percent of all merchant account applications, this is not true. Approvals for any Merchant Account solution that we provide can take anywhere from five business days to two weeks. We have done it quickly,
 but approval depends on many factors: Type of industry Merchant payment processing history We want to be able to provide support within 24 or 48 hours, but it is likely that the takeover bank will take more time to give a green light. Rest assured, however,
 that our specialist merchant account manager will do everything possible to get your business approved as soon as possible.
Our staff walk you through step by step through the application process and stay in the form of your advisor for the life of your partnership with amazement. Live Chat with a Merchant Account Manager by selecting the button below.
Can I get payment gateway with my bitcoin merchant account? Each merchant account we have furnished includes payment gateway provided by the payment bank. We believe that the banking partners offer a secure payment gateway for all transactions, with which you will link the bank's API to your website for approval. Who accepts Bitcoin?
List of companies that accept and offer bitcoin payment processing increases with the week. It is further proof that the virtual currency is here to stay. Many small businesses around the world accept Bitcoin, but major companies are following it. Utah-based overstock.com became the first major American retailer to recognize it, and others followed it, which included names of Virgin Galactic, Tiger Direct and NBA's Sacramento Kings. What are Bitcoin Merchant Account Fees?



The fee we charge depends on many factors, such as the processing history of the merchant, type of industry (high risk or low risk) and estimated sales volume. Each Merchant Account is specific,
but specific fees for Bitcoin merchants include: Merchant Discount Rate Per transaction fee Monthly statement fee Monthly gateway fee Six Month Rolling Reserve Chargeback Fees Refund fee Mercury accounts of bitcoin mining hardware Many hardcore bitcoins and crypto enthusiasts are also bitcoin and cryptocurrency miners. The process of mining is done with the use of special software which resolves complex mathematical equations, which results in the construction of those. Bitcoin is a limiting currency - it is believed that it is capped at 21 million bitcoins,
 of which only half have been released and are in vogue. The more bitcoins that fall in practice, the more difficult it is for them. Wishing, progress in mining techniques is also being made.
Share:

बहु संश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा वर्ग संख्या

बहु संश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा वर्ग संख्या

सामूहिक 'योजक' निर्देश विभिन्न विषयों की तालिकाओं में अनेक स्थानों पर मिल जाते हैं। निम्नलिखित उदाहरणों में सामूहिक 'योजक' निर्देशों का पालन करते हुए संश्लेषित वर्ग संख्या का निर्माण किया गया है:
(a) शीर्षक First aid in heart diseases की वर्ग संख्या का निर्माण करने के लिए सर्वप्रथम तृतीय सारांश तदुपरान्त संबंधित तालिका में देखने पर वर्ग संख्या 616.12 तथा शीर्षक [Diseases] of heart मिल जाता है। यह एक तारांकित शीर्षक है अत: पाटिप्पणी "Add as instructed under 616.1 - 616.9 " का अनुसरण करते हुए पृ. 868 - 869 में दिए गए निर्देशों तक पहुंच जाते हैं । इन निर्देशों का अवलोकन करने पर 0252 First aid मिल जाता है। अब, निर्देशों के आरंभिक भाग में दी गई टिप्पणी A side from...add to notation for each Term identified by* as follows:" के अनुसार First aid की वर्ग संख्या 0252 को आधार संख्या 616.12 के आगे जोड़ देते है। अतः शीर्षक -
First aid in heart diseases की वर्ग संख्या 616.12 + 0252 = 616.120 252

बहुसंश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा वर्ग संख्या निर्माण की विधि की जानकारी देना

(b) शीर्षक Violin performance की वर्ग संख्या का निर्माण करने हेतु, सर्वप्रथम तृतीय सारांश में देखने पर 787 String instruments and their music शीर्षक मिल जाता है। 787 की तालिका में 787.1 Violin शीर्षक दिया हुआ है किन्तु इसके आगे तारा-चिन्ह अंकित है। अत: हम पृष्ठ के नीचे दी गई पाद् टिप्पणी "Add as instructed under 787 - 789 " का अनुसरण करते हुए उसके पहले पृष्ठ में दिए गए निर्देशों तक पहुंच जाते हैं । इन निर्देशों का अवलोकन करने पर 0714 performance शीर्षक मिल जाता है । फिर इन निर्देशों के आरंभिक भाग में दी गई टिप्पणी Add to each subdivision identified by * as follows : के अनुसार performance की संख्या 0714 को आधार संख्या 787.1 के आगे जोड़ देते हैं। अत: शीर्षक Violin performance की वर्ग संख्या -
787.1 + 0714 = 787.107 14 5. अभ्यासार्थ प्रश्न
i) Management of cooperative enterprises ii) Remodeling the architecture of post office buildings iii) Flute concerts iv) Society of library science students v) Motion-picture photography of science vi) Problems in acquisition of government publications in libraries vii) Book selection in national libraries viii) Surgical treatment of ovary diseases ix) Physical chemistry of Potassium
x) Preservation of knitted laces वर्ग संख्याएं । 1) 658.047
2) 725.160 286 3) 788.510 73
4) 371.840 2 5) 778.538 5
6) 025.283 4 7) 025.218 75
8) 618.110 7 9) 546.383 5
10) 746.220 488
6. विस्तृत अध्ययनार्थ ग्रंथसूची 1. DEWEY (Melvil), Dewey Decimal Classification and Relative Index. 19th
ed., Ed by Benjamin A Custer. Albany, N.Y. The Forest Press,
1979. 2. SATIJA (MP), Exercise in the 19th edition of Dewey Decimal
Classification, New Delhi, Concept, Publishing Co., 2001,
260
इकाई - 17 :

निर्माण उद्देश्य

2. विभिन्न तालिकाओं से बहुसंश्लेषित वर्ग संख्याओं का निर्माण करना। संरचना/विषयवस्तु
1. विषय प्रवेश 2. बहुसंश्लेषण की प्रक्रिया 3. बहु संश्लेषण का उदाहरण सहित अध्ययन 4. सारांश 5. अभ्यासार्थ प्रश्न | 6. विस्तृत अध्ययनार्थ ग्रंथसूची 1. विषय प्रवेश
दशमलव वर्गीकरण प्रणाली का मूल स्वभाव सामान्यतया परिगणनात्मक होने के कारण इस प्रणाली में समस्त विषयों को सर्वप्रथम मुख्य वर्गों में तत्पश्चात प्रत्येक मुख्य वर्ग को प्रभागों में। प्रत्येक प्रभाग को अनुभागों में, तथा प्रत्येक अनुभाग को उप-अनुभागों में उत्तरोत्तर विभक्त करते जाते है। इस संपूर्ण प्रक्रिया में किसी एक विषय के विभिन्न पक्ष अलग-अलग अनुभागों या उप-अनुभागों या फिर सारणियों में वर्गीकृत किए हुए मिल सकते हैं। पिछले अध्यायों में संश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा वर्ग संख्या निर्माण की विधियों का अध्ययन किया। उन अध्यायों में किसी आधार संख्या के आगे तालिकाओं अथवा सारणियों से सम्पूर्ण वर्ग संख्या या उसका एक अंश जोड़ने के निर्देश दिए गए थे।
इस अध्याय में दिए गए विभिन्न उदाहरणों में बहु संश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा वर्ग संख्या निर्माण की विधि का विश्लेषण किया गया है। साथ ही, वर्ग संख्याओं या उनके उन अंशों, जिन्हें बहुसंश्लेषण की प्रक्रिया में जोड़ना है, को दृष्टांत में समान्तर चतुर्भुज के अंदर रखा गया है। किसी वर्ग संख्या के आगे दिए गए शीर्षक के अर्थ को स्पष्ट करने के लिए आवश्यकतानुसार उसके विस्तृत शीर्षक को दीर्घ कोष्ठक में दिया गया है। जो उदाहरणों से स्पष्ट होगा।

2. बहुसंश्लेषण की प्रक्रिया

विशिष्टीकरण तथा मिशन-अभिमुख शोध के युग में बहु पक्षिक विषयों पर प्रलेखों का प्रकाशित होना एक साधारण बात हो गई है। अनेक बार ऐसे विषयों के वर्गीकरण की आवश्यकता हो जाती है जिनके विभिन्न पक्ष तालिकाओं तथा सारणियों में दो से भी अधिक स्थानों पर वर्णित हैं। ऐसे बहु पक्षिक विषयों के वर्गीकरण के लिए संश्लेषण की प्रक्रिया को अनेक बार दोहराने की आवश्यकता पड़ती है। वर्गीकरण की सम्पूर्ण प्रक्रिया में संश्लेषण की प्रत्येक अवस्था के लिए स्पष्ट निर्देश दो तरह से दिए जा सकते हैं। यह निर्देश या तो मूल आधार संख्या के ही साथ दिए होते हैं या मूल आधार संख्या के साथ केवल एक अन्य वर्ग संख्या या उसके अंश को जोड़ने के निर्देश मिलते हैं। यहां पहुंचने पर पुनः जोड़िए निर्देश मिल जाते हैं। इस प्रकार अंकों की एक कड़ी के साथ दूसरी कड़ी जुड़ती चली जाती है। और अंत में विभिन्न वर्ग संख्याओं या उनके अंशों को जोड़कर बनी अंतिम वर्ग संख्या में तीसरे अंक के पश्चात एक दशमलव बिन्दु लगाकर बहु संश्लेषण की प्रक्रिया पूर्ण की जाती है।
बहु संश्लेषण की प्रक्रिया में आधार संख्या का निर्धारण अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। इसी आधार संख्या के साथ अन्य पक्षों को जोड़ने के निर्देश मिलते हैं। आधार संख्या के निर्धारण में दशमलव वर्गीकरण प्रणाली के आधारभूत ढांचे की जानकारी की प्रमुख भूमिका होती है। यदि उचित आधार संख्या का निर्धारण कर लिया जाय तो अन्य पक्षों को जोड़ने के लिए उत्तरोत्तर निर्देश मिलते जाते हैं। वैकल्पिक रूप में, स्वानुभाविक विधि का प्रयोग किया जा सकता है। और प्रत्येक उचित होने वाले पक्ष से आरंभ करके संश्लेषण की प्रक्रिया की जांच की जा सकती है। जिस पक्ष की वर्ग संख्या के अंतर्गत संश्लेषण का प्रावधान है उसी को आधार संख्या मानकर बहु संश्लेषित वर्ग संख्या का निर्माण किया जा सकता है।
इस प्रक्रिया में अनेक स्तरों पर पूर्ण वर्ग संख्या अथवा उसका एक अंश जोड़ने का प्रावधान होता है। अत: संश्लेषण की प्रक्रिया के प्रत्येक स्तर से संबंधित वर्ग संख्याओं को अभ्यास पुस्तिका में उत्तरोत्तर लिखते जाना चाहिए। इससे अंतिम बहुसंश्लेषित वर्ग संख्या निर्मित करते समय जोड़ने में असुविधा न हो। 
Share:

शीर्षक - प्रायोगिकी की पत्रिका

 शीर्षक - प्रायोगिकी की पत्रिका

Journal of Technology 605
खण्ड दो की अनुसूची में Serial Publictions of Technology का अंकन 605 (V2, P824) दिया गया है। इस शीर्षक में भी मुख्य आधार अंक 600 से दोनों शून्य अंकों को छोड़कर शेष अंक 6 के साथ मानक उपविभाजन अंकन 05 को जोड़ा गया है।
6 + 05 = 606 टिप्पणी :
खण्ड दो की अनुसूची में मुख्य वर्ग अंक के साथ से अन्तिम शून्य अंक मानक उपविभाजन अंकन जोड़ने से पहले हटाने का प्रावधान है। लेकिन अगर ऐसे अंकन के विषय भाग अगर मानक उपविभाजनों की जगह तक बढ़ाया गया है तब मानक उपविभाजनों को अनुसूची में दिए हुए प्रावधान के अनुसार ही जोड़ा जाता है। जैसे कि Philosophy and theory of the arts का वर्गीक 700.1 है न कि 701 और Study and Teachings of Religion का अनुसूची में वर्ग अंक 200.7 दिया हुआ है न कि 207 ।। 6. सारणी-1 में प्राथमिकता सारणी का प्रयोग ।
। आमतौर पर सारणी 1 में दी गई मानक उपविभाजनों में से किसी दो मानक उपविभाजनों को एक के बाद एक किसी एक वर्ग अंक के साथ नहीं जोड़ा जाता। वर्गाकार को दोनों मानक उपविभाजनों में से एक को जोड़ने का निर्देश है। वर्गाकार की सहायता के लिए सारणी 1 से पहले एक प्राथमिक सारणी दी हुई है। जिसके प्रयोग से वर्गाकार यह तय कर सकता है कि अगर किसी शीर्षक में दो मानक उपविभाजन का वर्णन हो तो वर्गाकार को किस मानक उपविभाजन को प्राथमिकता देनी चाहिए जैसे किशीर्षक - यान्त्रिक इंजीनियरिंग की तकनीक में दृश्य-श्रव्य उपचार

Audio Visual treatment of techniques of mechanical engineering 621.028

इस शीर्षक में Technique 028 तथा Audio-visual treatment 0208 दोनों मानक उपविभाजन हैं, इसलिए दोनों में से एक को ही आधार अंक 621 (V2, P926) के साथ जोड़ा जा सकता है। सारणी 1 के शुरू में ही दिए गए प्राथमिकता सारणी के अनुसार मानक उपविभाजन technique के अंकन 028 को Audio-visual treatment के अंकन -0208 से प्राथमिकता दी गई है। इसलिए शीर्षक 18 का सही वर्गीक है 621 + - 028 = 621.028 न कि 621 + - 0208 = 621.0208 ।। शीर्षक - अर्थशास्त्र के क्षेत्र में संगठनों की तालिका
Tables of organizations in the field of Economics 330.021 2
अर्थशास्त्र शीर्षक में Organisation तथा Tables दोनों मानक उपविभाजन हैं। किन्तु सारणी 1 के साथ Prefix प्राथमिक सारणी में Tables के मानक उपविभाजन के अंकन - 0212 को organisations के मानक उपविभाजन के अंकन -06 से प्राथमिकता दी गई है। इसलिए इस शीर्षक के आधार अंक 330 (V2, P240) के साथ जोड़ा जाएगा ।
330 + - 0212 = 330.021 2 टिप्पणी :
उपर्युक्त शीर्षकों से यह संकेत मिलता है कि अगर किसी शीर्षक में दो मानक उपविभाजन हों तो वर्गाकार वरीयता सूची (Table of Precedence) की सहायता से यह तय कर सकता है कि दोनों मानक उपविभाजनों में से आधार अंक के साथ किस मानक उपविभाजन को जोड़ा जाएगा। लेकिन सारणी 1 में -04 एक ऐसा मानक उपविभाजन है जिसके साथ -01 से -09 तक कोई भी मानक उपविभाजन जोड़ा जा सकता है।

शीर्षक - संरचनात्मक इंजीनियरिंग आकलन की सामग्री का अध्ययन

Study of Structural Engineering estimates of materials 624.104 207
खण्ड दो की अनुसूची में Structural Engineering का आधार अंक 624.1 दिया हुआ है (V2, P984)। इस अंक के साथ मानक उपविभाजन -042 को जोड़कर Structural Engineering estimates का अंकन 624.1042 अनुसूची में दिया गया है। सारणी 1 में दिए गए मानक उपविभाजन 04 के साथ दिए गए निर्देशानुसार इस मानक उपविभाजन के साथ 0109 तक कोई भी मानक उपविभाजन जोड़ा जा सकता है। निर्देशानुसार अन्तिम वर्गीक -
624.1042 + 07 = 624.104 207 शीर्षक - शास्त्रीय संगीत का अध्यापन
Teachings of Classical Music 780.430 7
अनुसूची में संगीत का आधार अंक 780 है। और 780.43 अंकन Classical संगीत को निर्धारित किया गया है । इस अंकन में 043 मानक उपविभाजन के अंक 04 का विस्तार है। मानक उपविभाजन -07 को जोड़ने के बाद अन्तिम वर्गीक --
780.43+07= 780.430 7 बनेगा। 7. मानक उपविभाजनों का विस्तार
बहुत से मानक उपविभाजनों का विस्तार सारणी 1 में दिए गए मानक उपविभाजनों के साथ निर्देशानुसार सारणी 2 से 7 को साथ जोड़ने से किया जा सकता है। मानक उपविभाजनों के प्रसार के लिए कहीं-कहीं खण्ड 2 की अनुसूची से भी अंकन लिए जाने का निर्देश मानक उपविभाजनों की सारणी 1 में दिया गया है। मानक उपविभाजनों के प्रसार का अनुप्रयोग निम्नांकित उदाहरणों से स्पष्ट हो जाएगा। शीर्षक - व्यावसायिक बैंकों में ईलैक्ट्रोनिक डाटा प्रक्रमण

Electronics data processing in commercial Banks 382.120 285 4

अनुसूची में व्यावसायिक बैंकों का अंकन 332.12 दिया हुआ है (V2, P263)। इस अंकन के साथ सारणी 1 से data processing का मानक उपविभाजन अंकन -0285 जोड़ा जाना चाहिए। लेकिन मानक उपविभाजन अंकन -0285 के नीचे यह निर्देश दिया गया है।
Add to the base number -0285 the number following 011.61 - 00.64 ।। अर्थ यह है कि वर्गाकार को केवल 001.61 - 00.64 या इसी के आगे के विभाजनों में से Electronics data processing का अंकन खण्ड 2 की अनुसूची से देखकर उसमें से 006.6 अंक को हटाकर बाकी अंकों को 001.6 के साथ जोड़ना है।
| खण्ड 2 की अनुसूची में Electronics data processing का अंकन 001.64 दिया हुआ है। ऊपर दिए हुए निर्देशानुसार Electronics data processing का मानक उपविभाजन बनेगा -0285 + 4 = -02854 और शीर्षक 21 का अन्तिम अंकन बनेगा।
| 332.12 + 02854 = 332.120 285 4 शीर्षक - संगीत उपकरणों के निर्माण में संश्लेषण ध्वनि के सिद्धांत
Principles of Synthesis of sound in manufacturing Musical Instruments 681.801 534 4
| अनुसूची में Musical Instruments Manufacturing का आधार अंक है 681.8 (V2, P1199)। इस शीर्षक में Scientific Principles का अंकन 015 मानक उपविभाजन है। सारणी 1 में इस मानक उपविभाजन के नीचे यह निर्देश दिया गया है कि इस मानक उपविभाजन के साथ 510-590 तक अंक 5 को हटाकर बाकी अंकों को 015 के साथ जोड़ा जा सकता है। शीर्षक 23 में Synthesis of sound का अंक है 534.4 | अंक 5 को हटाकर बाकी के अंकन को अगर 015 से जोड़ा जाए तो अन्तिम वर्गीक बनेगा
681.8+015+344 = 681.801 534 4 शीर्षक - जैव टैक्नोलोजीविज्ञों के भू-अर्थविज्ञान

Land Economics for Biotechnologists 333.002 462 08

अनुसूची में Land Economics का अंकन 333 दिया हुआ है (V2, P275) । इस अंकन के साथ मानक उपविभाजन जोड़ने के लिए जैसे कि अनुसूची में संकेत दिया है एक अतिरिक्त शून्य लगानी होगी। मानक उपविभाजन -024 के नीचे यह निर्देश दिया हुआ है कि अगर कोई एक ग्रन्थ का किसी दूसरे विशेष विषय के लिए लिखा जाता है तो उस का अंकन सारणी 7 से लिया जाए। निर्देशानुसार शीर्षक का वर्गीक इस प्रकार बनेगा -
333 + 0024 + 6208 = 333.002.462 08 शीर्षक - स्पेनिश भाषा के अन्तर्राष्ट्रीय विधान का विश्वकोश

Share:

ग्रन्थांक निर्माण करने के पक्ष-परिसूत्र का उल्लेख

ग्रन्थांक निर्माण करने के पक्ष-परिसूत्र का उल्लेख

इस भाग में वर्गीकरण की विभिन्न अनुसूचियों का उल्लेख है। वर्ग संख्याओं का निर्माण करने के लिये संबंधित अनुसूचियों से एकल संख्यायें प्राप्त की जाती हैं।
अध्याय 02 में ग्रन्थांक निर्माण करने के पक्ष-परिसूत्र का उल्लेख है तथा ग्रन्थांक में प्रयोग में लाये जाने वाले रूप (Form) उप विभाजनों की अनुसूची दी गई है- जैसे सचित्र ग्रन्थ के लिये f(Picture), अनुक्रमणिका के लिये b(index) कोड (संहिता) के लिये q(Code) इत्यादि।
12
नोट:- ग्रन्थांक का निर्माण करते समय इस अध्याय के साथ-साथ भाग 1 के अध्याय 03 का निरंतर अवलोकन करना पड़ता है।
अध्याय 1 में ज्ञान जगत का विभाजन मुख्य वर्गों में किया गया है। प्रत्येक मुख्य वर्ग के लिये प्रयुक्त प्रतीक चिन्ह का भी संबंधित मुख्य वर्ग के साथ उल्लेख किया गया है। जैसे, 2 = Library Science, B= Mathematics, C=Physics, V=History इत्यादि।
अध्याय 2 में सर्वमान्य एकलों की अनुसूची का उल्लेख है। यहां पर प्रायः अधिकांश सर्वसामान्य एकलों के साथ उनसे सम्बन्धित पक्ष परिसूत्र दिया गया है। इस पक्ष परिसूत्र को ध्यान में रखकर संबंधित सर्वसामान्य एकल का प्रयोग किया जाता है। जैसे, m (P), (P2) =Periodically; Autobiography= w(P),1: Conference Proceeding =p(P),(P2).

सर्वसामान्य एकलों का प्रयोग करते समय भाग- 1 

के अध्याय 2 का निरंतर अवलोकन करना पड़ता है क्योंकि इस अध्याय में प्रत्येक पक्ष-परिसूत्र के संबंध में दिशा निर्देश दिये गये हैं। (पृ. 1.43 से 1.46)
अध्याय 3 में काल एकलों का दो स्तरों पर विभाजन किया गया है। प्रथम स्तर कलैण्डर पर आधारित समय को- जैसे, M=1800 से 1899 (उन्नीसवीं शताब्दी) तथा वितीय स्तर पृथ्वी की गति अथवा प्राकृतिक घटना चक्र पर आधारित काल को- जैसे n3 = Summer (ग्रीष्मकाल), d=Night (रात्रि) व्यक्त करता है। कलैण्डर पर आधारित काल को B.C. (ई.पू.) एवं A.D. (ई.) के रूप में भी व्यक्त किया गया है। जैसे, C=999 से 1 B.C.; D=1 से 999 A.D. इत्यादि।
अध्याय 4 में स्थान एकलों अर्थात् भौगोलिक विभाजनों का उल्लेख है। स्थान एकलों की भी दो स्तरों पर अनुसूचियां दी गई हैं; जैसे (S1) प्रथम स्तर विश्व के विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों से संबंधित हैं तथा (S2) द्वितीय स्तर पर प्राकृतिक विभागों का उल्लेख है। (S2) वितीय स्तर के एकलों का संशोधन कर दिया गया है तथा इनका संशोधित रूप परिशिष्ट (Annexure) के पृष्ठ 26 पर उपलब्ध है।
| अध्याय 5 में भाषा एकलों की अनुसूची उपलब्ध है। 'साहित्य' एवं 'भाषा शास्त्र' मुख्य वर्गों में भाषा का प्रयोग होता है तथा भाषा की एकल संख्या इसी अध्याय से प्राप्त की जाती है।

| अध्याय 6 में विभिन्न जाति एवं प्रकार के दशा संबंधों 

के लिये प्रयोग में लाये जाने वाले प्रतीकों का उल्लेख है। ये प्रतीक अन्तर्विषयी, अन्तर्पक्ष एवं अन्तर्पक्ति दशासंबंधों के विभिन्न प्रकारों के लिये प्रयोग में लाये जाते हैं।
शेष अध्यायों-अर्थात् अध्याय 9a (Generalia Bibliography) से अध्याय Z (Law) तक-में सभी मुख्य वर्गों से संबंधित वर्गीकरण अनुसूचियां दी गई हैं। प्रत्येक मुख्य वर्ग के अन्तर्गत सर्वप्रथम उस मुख्य वर्ग का 'पक्ष-परिसूत्र (Facet Formula) दिया गया है। इसके बाद पक्ष परिसूत्र की मांग के अनुसार विभिन्न पक्षों से संबंधित एकल संख्याओं का क्रमशः उल्लेख किया गया है। इसके साथ ही इनके प्रायोगिक उपयोग संबंधी आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये हैं। इन अनुसूचियों के प्रत्येक पृष्ठ को दो भागों में विभाजित किया गया है। प्रत्येक
13
भाग में पहले (बायीं ओर) प्रतीक संख्या तथा उसके सामने उस प्रतीक संख्या से संबंधित पद (शब्द) का उल्लेख है। पक्ष परिसूत्र में मुख्य वर्ग के वर्गीकरण के लिये आवश्यक पक्षों का ही उल्लेख होता है। स्थान एवं काल पक्ष का प्रायः उल्लेख नहीं होता क्योंकि ये दोनों पक्ष सर्वसामान्य पक्ष होते हैं। इनका प्रयोग विशिष्ट विषय की मांग के अनुसार क्रमशः अध्याय 3 एवं अध्याय 4 के आधार पर कर लिया जाता है। उदाहरणार्थ -

अध्याय 92 के अन्तर्गत (पृष्ठ 2.30) Library Science (ग्रन्थालय विज्ञान) 

का पक्ष परिसूत्र इस प्रकार है: 2 [P]; [M] : [E] [2P] इस पक्ष परिसूत्र में तीन पक्षों का प्रयोग हुआ है; अर्थात् [P], [M] एवं [E]। तदानुसार इस पक्ष परिसूत्र से संबंधित एकल संख्याओं का ही उल्लेख इस मुख्य वर्ग में किया गया है। वर्गीकरण करते समय संबंधित पक्षों की एकल संख्या चुनकर उन्हें इस पक्ष परिसूत्र के क्रम में रखकर वर्गीक का निर्माण किया जाता है। 2.2.1 अनुसूचियों की अनुक्रमणिका एवं विशिष्ट अनुक्रमणिकायें अनुसूचियों की अनुक्रमणिका भाग 2 के अन्त में (पृष्ठ 2.124 से 2.172 तक) अनुसूचियों में प्रयुक्त संघटक पदों की अनुक्रमणिका का उल्लेख है। इसका व्यवस्थापन वर्णक्रम से है। इसके प्रायोगिक उपयोग का विस्तृत विवरण बाद में अनुच्छेद 7 - अनुक्रमणिका प्रायोगिक उपयोग के अन्तर्गत किया गया है। विशिष्ट अनुक्रमणिकायें उपर्युक्त अनुक्रमणिका के अलावा इस भाग 2 में उपयुक्त स्थानों पर निम्नलिखित विशिष्ट अनुक्रमणिकाओं का भी समावेश किया गया है: (i) अध्याय 4 = स्थान एकल के अन्त में (पृष्ठ 2.18 से 2.25 तक) स्थान एकल पदों से संबंधित 'भौगोलिक अनुक्रमणिका' दी गई है। इसका व्यवस्थापन वर्णानुक्रम से है। इसकी सहायता से किसी भी स्थान की एकल संख्या का आसानी से पता लगाया जा सकता है। अध्याय = वनस्पतिशास्त्र के अन्त में (पृष्ठ 2.61 से 2.63 तक) वनस्पतियों के प्राकृतिक वर्गों के एकल पदों से संबंधित अनुक्रमणिका उपलब्ध है। इसका व्यवस्थापन वर्णानुक्रम से है। अध्याय K= प्राणिशास्त्र के अन्त में (पृष्ठ 2.73 से 2.78 तक) विभिन्न प्राणियों के प्राकृतिक वर्गों के एकल पदों से संबंधित अनुक्रमणिका उपलब्ध है। इसका व्यवस्थापन वर्णानुक्रम से है। 2.3 भाग 3 : वरेण्य ग्रन्थ व धार्मिक ग्रन्थ |

इस भाग में विविध प्रकार के वरेण्य ग्रन्थों एवं धार्मिक ग्रन्थों 

के बने बनाये वर्गीक दिये गये हैं। जैसे भारतीय विद्या (Indology), भारतीय धर्मों, दर्शन शास्त्र, आयुर्वेद, भाषा
शास्त्र, साहित्य समालोचन, अलंकार शास्त्र आदि के ग्रन्थ। इन ग्रन्थों का व्यवस्थापन संबंधित विषय या प्रकरण के अन्तर्गत वर्गीकों के अनुसार सहायक क्रम में किया गया है, जैसे- LBAyurveda System शीर्षक के अन्तर्गत आयुर्वेद के वरेण्य ग्रन्थों का। इन वर्गीकों का निर्माण वरेण्य ग्रन्थ विधि के अनुसार किया गया है। एक सामान्य श्रेणी के वर्गीकरणकार के लिये इन ग्रन्थों का वर्गीकरण करना सरल नहीं था। अतः रंगनाथन ने इस कार्य को इस प्रकार सरल बना दिया है। वरेण्य ग्रन्थों व धार्मिक ग्रन्थों के वर्गीकरण के लिये इस भाग का विशेष महत्व है।

2.3.1 अनुक्रमणिका : वरेण्य ग्रन्थ

वरेण्य ग्रन्थों व धार्मिक ग्रन्थों की उपर्युक्त अनुसूची वर्गीकों के अनुसार व्यवस्थित होने के कारण किसी विशिष्ट धार्मिक ग्रन्थ या वरेण्य ग्रन्थ को इस अनुक्रम में ढूंढना कठिन है। अत: इनकी अनुक्रमणिका इस अनुसूची के तुरन्त बाद पृष्ठ 3.54 से 3.126 तक दी गई है। यह अनुक्रमणिका लेखक के नाम एवं ग्रन्थ की आख्या के अनुसार वर्णानुक्रम में व्यवस्थित है। इस प्रकार किसी भी ऐसे ग्रन्थ का वर्गीक आसानी से ढूंढा जा सकता है।

Share:

अंकन के प्रकार (Type of Notation) विषयों / प्रलेखों को सहायक अनुक्रम

अंकन के प्रकार (Type of Notation) विषयों / प्रलेखों को सहायक अनुक्रम

अर्थात विषयों / प्रलेखों को सहायक अनुक्रम में व्यवस्थित करना है । अंकन के द्वारा प्रत्येक प्रलेख को एक वर्ग संख्या प्रदान की जाती है, जिसके अनुसार वर्गीकृत व्यवस्था यंत्रवत बन जाती है | इस व्यवस्था का लाभ यह है कि पाठक दवारा किसी प्रलेख के मांगे जाने पर उसे लाखों पुस्तकों के मध्य से तुरन्त निकाला जा सकता है और पाठक के द्वारा लौटाये जाने पर पुन: उसके निर्धारित स्थान पर रखा जा सकता है । 2. अंकन अपने क्रमसूचक मान (Ordinal Value) के आधार पर विषयों को समकक्ष एवं अधीनस्थ वर्गों में विभाजित कर, उनके विकास के प्रत्येक स्तर को प्रदर्शित करता है । 3. यह पद्धति की वर्णानुक्रम अनुक्रमणिका (Alphabetical Index) को कार्य शीलताप्रदान करता है, जिसके फलस्वरूप पद्धति में परिगणित वर्गों तक पहुंचा जा सकता है । 4. सूची के दो भागों-वर्णानुक्रम प्रसूची (Alphabetical Catalogue) तथा प्रसूची (Classified Catalogue) को कार्यशील बनाने का कार्य अंकन करता है ।
5. यह फलकों पर प्रलेखों की वर्गीकृत व्यवस्था को यंत्रवत बनाता है ।
6. अंकन वर्गीकरण पद्धति की अनुशूचियों के निर्माण तथा उनके भौतिक स्वरूप में अत्यधिक मितव्ययता प्रदान करता है ।। 7. अंकन अपने स्मृति सहायक (Mnemonics) गुण के कारण पुस्तकालयाध्यक्ष को वर्ग
एवं उसके विभाजन के अनुक्रम को याद रखने में सहायता प्रदान करता है ।
8. यह पुस्तक-संग्रह कक्षों का मार्ग दर्शन करने में सहायता करता है । अर्थात पुस्तक की वास्तविक स्थिति का पता चलता है । 9. आगम-निर्गम प्रक्रिया को सुचारू रूप से संचालित करने में सहायक होता है ।
10. प्रलेखन सेवा को गति प्रदान करने में सहायक होता है ।
11. पुस्तकालय के विभिन्न आकड़े व रिकार्ड तैयार करने में अंकन की भूमिका होती है ।
12. अंकन का प्रयोग ग्रन्थ की पीठ (Spine), मुख पृष्ठ के पश्च भाग, लेवल, आदि पर लिखने हेतु किया जाता है । 3.3. अंकन के प्रकार (Type of Notation):
वर्गीकरण पद्धति की अंकन व्यवस्था को निर्मित करने के लिए वर्गाचार्य (classificationist) ने कितने प्रकार के व किस प्रकार के अंकों, चिन्हों इत्यादि का प्रयोग किया है, इसी आधार पर अंकन को प्रमुख रूप से दो भागों से बाँटा गया है ।

शुद्ध अंकन (Pure Notation):

जिस वर्गीकरण पद्धति अंकन व्यवस्था में केवल एक ही प्रजाति के अंकों (संख्यायें 1.....9, 0 या अक्षरों A-Z) का प्रयोग किया जाता है, उसे शुद्ध अंकन कहते हैं । शुद्ध अंकन का प्रयोग सर्वप्रथम मेलविल इयूई ने अपनी दशमलव पद्धति में (1876) किया था । राइडर्स इंटरनेशनल क्लैसिफिकेशन (Riders International Classification) में भी शुद्ध अंकन का प्रयोग हुआ है ।
शुद्ध अंकन के गुण (Qualities of Pure Notation): (i) यह बहुत सरल होता है । अत: इसे पढ़ना, लिखना व याद करना आसान है ।
साथ ही पाठकों एवं पुस्तकालय कर्मचारियों के समय एवं श्रम की बचत होती है । (ii) इसके दारा निर्मित वर्ग संख्याओं का क्रम निश्चित करना आसान है । इसके लिए
पुस्तकालय कर्मचारियों को विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता नहीं होती ।। (iii) इसे लिखने व टाइप करने में त्रुटियों की सम्भावना कम रहती है । शुद्ध अंकन के दोष (Demerits of Pure Notation) (i) शुद्ध अंकन का सबसे बड़ा दोष इसके आधार का सीमित होना है । एक प्रजाति के
अंको के प्रयोग के कारण अंकन का आधार सीमित हो जाता है । (जैसे यदि हिन्दअरबी संख्याओं का प्रयोग हो तो आधार अंक केवल 10 होते हैं, या यदि रोमन बड़े अक्षरों का प्रयोग हो तो आधार केवल 26 अंकों का होता है, जिसके कारण शान जगत के प्रथम श्रेणी के वर्गो (First Order Arrays) को विभाजित करने के लिए कम ही अंक उपलब्ध हो पाते हैं ।
(i) सीमित आधार तथा एक ही प्रजाति के अंकों के प्रयोग के कारण वर्ग संख्या अत्यन्त लंबी हो सकती है । (ii) शुद्ध अंकन पर आधारित पद्धति में ज्ञान जगत के निरन्तर विकास के कारण नवउत्पन्न विषयों को समाविष्ट करने की क्षमता का अभाव होता है । शुद्ध अंकन पर आधारित पद्धति में विधियों (Devices) का प्रावधान भी नहीं हो पाता है । मिश्रित अंकन (Mixed Notation) जिस वर्गीकरण पद्धति की अंकन व्यवस्था में कई प्रकार के अंकों, प्रतीकों व चिन्हों का प्रयोग किया जाता है, उसे मिश्रित अंकन कहा जाता है | वर्गीकरण में मिश्रित अंकन के प्रथम समर्थक ई.सी. रिचार्डसन थे । रिचार्डसन ने मिश्रित अंकन का सिद्धान्त प्रतिपादित कर इसकी उपयोगिता बताते हुए कहा कि प्रत्येक वर्गीकरण (पद्धति) को कभी न कभी मिश्रित अंकन प्रयोग करना ही पड़ेगा । ब्लिस भी मिश्रित अंकन के ही समर्थक थे तथा अपनी पद्धति का आधार भी मिश्रित अंकन ही बनाया । सेयर्स ने वर्गीकरण के उपसूत्रों में एक शुद्ध अंकन का उपसूत्र भी प्रतिपादित किया था किन्तु वे मिश्रित अंकन के प्रबल समर्थक थे | रंगनाथन की दवबिन्दु पद्धति (1933), लाईब्रेरी ऑफ कांग्रेस क्लैसिफिकेशन पद्धति (1904),

 ब्राउन की विषयात्मक पद्धति (1906), 

ब्लिस की ग्रंथात्मक पद्धति (1935) आदि मिश्रित अंकन के ज्वलन्त उदाहरण हैं ।
मिश्रित अंकन के गुण (Qualities Mixed Notation) (i) विभिन्न प्रकार के अंकों, प्रतीकों व चिन्हों के प्रयोग के कारण मिश्रित अंकन का | आधार विस्तृत होता है । अत: ज्ञान जगत के प्रथम श्रेणी (First order arrays)
के वर्गों को पृथक-पृथक अंक प्रदान करना सम्भव है ।। (ii) विस्तृत आधार के कारण वर्ग संख्या छोटी बनती है ।। (iii) विभिन्न प्रकार की विधियों (Devices) के प्रावधान के कारण पंक्ति एवं श्रृंखला एकलों में ग्राह्यता का गुण उत्पन्न होने से ज्ञान जगत के विषयों का सूक्ष्म वर्गीकरण सम्भव है । मिश्रित अंकन के दोष (Demerits of Mixed Notation) (i) शुद्ध अंकन की तुलना में यह जटिल होता है, अत: इसे लिखना, बोलना व याद रखना अपेक्षाकृत कठिन होता (ii) मिश्रित अंकन में वर्गों का क्रम जानना कठिन होता है । (iii) मिश्रित अंकन क्रमदर्शक मूल्य (Ordinal Value) को समझकर फलकों से पुस्तकें | निकालना तथा पुन: व्यवस्थित करना एक जटिल कार्य है । 4.4 अंकन में प्रयुक्त होने वाले अंको / प्रतीकों के प्रकार (Species of Digit / Symbols Used in Notation) अंकन व्यवस्था (Notation system) के निर्माण के लिए निम्न प्रकार के, चिन्हों, प्रतीकों इत्यादि का प्रयोग किया जाता है:
1. हिन्द-अरबी अंक (Indo-Arabic numerals) 1 से 9 तथा 0 2. रोमन-दीर्घ अक्षर (Roman Capital Letter): A से Z 3. रोमन लघु अक्षर (Roman Small Letter). a से z 4. ग्रीक अक्षर (Greek Letter) जैसे- A 5. संकेतक अंक (Indirect Digits) जैसे- , ; : . ' ( ) इत्यादि

Share:

गुप्तकाल हिन्दू धर्म के पुनरुत्थान का काल था। प्रमाणित कीजिए।

गुप्तकाल हिन्दू धर्म के पुनरुत्थान का काल था। प्रमाणित कीजिए।

गुप्त कालीन आर्थिक जीवन - गुप्त साम्राज्य के विस्तृत क्षेत्र पर प्रभाव एवं आधिपत्य तथा कुशल प्रशासनिक व्यवस्था के कारण देश में शान्ति रही। इससे आर्थिक जीवन समृद्ध एवं विभिन्न साधनों की उत्पत्ति में वृद्धि हो सकी । तत्कालीन आर्थिक स्थिति से सम्बन्धित पहलुओं का अध्ययन निम्न शीर्षक में किया जा सकता है :

गुप्तकाल में कृषि - 

गुप्तकाल में (सैद्धान्तिक रूप से) राजा सम्पूर्ण भूमि का स्वामी होता था लेकिन व्यवहार में भूमि तीन प्रकार की थी। परती जो राज्य के अधिकार में होती थी जो सामान्यतया वेतन के रूप में दी जाती थी, राज्य द्वारा अधिकृत कृषि भूमि, जिसे दान में दिया जा सकता था, लेकिन शायद बहुत कम किया गया, क्योंकि वह पहले से ही जोत की भूमि थी और उससे राज्य को आय होती थी : और तीसरे प्रकार की भूमि निजी स्वामित्व में थी। प्रत्येक भूमि के क्रय-विक्रय के लिए शासकीय आज्ञा की आवश्यकता होती थी।
नन्दपुर ताम्रपत्र (488 ई) से ज्ञात होता है कि परती भूमि भी क्रय की जाती थी। इस अभिलेख में एक अधिकारी स्थानीय शासन के सदस्यों के संघ के सामने निम्न प्रस्ताव रखता है “अब तुम्हारे विषय में परती भूमि के विक्रय प्रणाली की स्थापना (एक कुलीयवाय दो दीनारों की दर पर ) की जाती है। राज्य कृषि की ओर विशेष ध्यान देता था। कृषि की प्रगति के लिए सिंचाई इत्यादि का प्रबन्ध करना शासन का प्रमुख कर्तव्य था । सिंचाई के लिए घटी यन्त्र (रहट) का उपयोग गाँवों में खूब होता था। मौर्यों द्वारा निर्मित सुदर्शन झील की जिसका शक शासन रूद्रदमन द्वारा जीर्णोद्धार कराया गया था, पुन: गुप्त सम्राट स्कन्दगुप्त द्वारा मरम्मत करायी गयी और उसे काम में लाया गया। स्कन्दगुप्त के शासन काल में सुदर्शन झील के पुनर्निर्माण का विस्तृत विवरण उपलब्ध है। इस विस्तृत विवरण से न केवल राज्य की कृषि के लिए समुचित व्यवस्था करने का आभास होता है वरन् उस काल में अतिरिक्त जल को एकत्रित कर उसे फसल के लिए प्रयोग में लाने की वैज्ञानिक प्रणाली की जानकारी से अवगत गुप्तकालीन समाज का संकेत मिलता है । फाह्यान के विवरण से इस बात का ज्ञान मिलता है कि राज्य की भूमि जोतने वाले अपनी उपज का एक अंश राजा को कर के रूप में देते थे।
सम्भवतः किसानों को कर नकद (हिरण्य) के साथ-साथ अनाज (भेंट) के रूप में देने की छूट थी। गुप्त युग से ही सामन्तवादी प्रवृत्ति क्रमशः जोर पकड़ रही थी। गुप्त लेखों में जिन भूमिदानों का उल्लेख किया गया है, उससे यह स्पष्ट है कि भूमिदान के साथ-साथ गाँव की भूमि से उत्पन्न होने वाले आय भी ग्रहीता को सौंप दी जाती थी । इससे समाज में बेगार प्रथा तथा आर्थिक शोषण को बढ़ावा मिला। इस संदर्भ में इतिहासकार रामशरण शर्मा का यह कथन उल्लेखनीय जान पड़ता है जिसमें वे कहते हैं -“गुप्तकाल की महत्त्वपूर्ण घटना थी।

गुप्तकाल में कर व्यवस्था

स्थानीय किसानों के मध्य राजकीय जमीदारों का उदय । पुरोहितों को दिये जाने का जाने वाले भूमि अनुदानों के फलस्वरूप अनेक परती क्षेत्रों में खेती आरम्भ हो गई । परन्तु इस ला को स्थानीय कबीलाई किसानों पर ऊपर से लादा गया। स्थानीय कबीलाई किसान अवस्था में पहुंच गए। मध्य और पश्चिमी भारत में किसानों को बेगार करने को मज गया।” सामन्ती प्रथा के कारण धीरे- धीरे राजा या उसके द्वारा नियुक्त अधिकारियों किसानों का प्रत्यक्ष सम्पर्क समाप्त हुआ तथा राजकोष को आर्थिक हानि हुई । तत्कालीन वो से गुप्त युगीन प्राकृतिक सम्पदा एवं उत्पन्न की जाने वाली फसलों के विषय में हमें बहन कम जानकारी प्राप्त होती है। फिर भी यह कहा जा सकता है कि उस समय धान, गेहूं, पटसन तिलहन, कपास, नील, ज्वार, बाजरा, विभिन्न औषधियाँ, मसाले, पान आदि की खेती होती थी खेती का ढंग परम्परावादी अर्थात बैलों की जोड़ी तथा लकड़ी के हल (लोहे की फाल लिए हुए) से की जाती थी। बाराहमिहिर की वृहत संहिता में तीन फसलों का जिक्र आया है। एक फसल श्रावण के महीने में तैयार होती थी, दूसरी बसन्त में और तीसरी चैत्र या बैसाख में।

गुप्तकाल में अन्य व्यवसाय व उद्योग धन्धे - 

कृषि के अतिरिक्त गुप्तकालीन भारत में गाँवों तथा शहरों में अनेक अन्य उद्योग धन्धों को भी यथेष्ट प्रोत्साहन प्राप्त हुआ। गुप्तकालीन अवशेष इस तथ्य की पुष्टि करते हैं कि उस युग में पोत-निर्माण से लेकर मिट्टी के बर्तन बनाने तक और बिहार निर्माण से लेकर छोटे-छोटे गृह निर्माण तक के सभी कार्य निपुण शिल्पकारों के द्वारा किये जाते थे। विविध प्रकार के वस्त्र तैयार करने वाला उद्योग इस समय के अपेक्षाकृत महत्त्वपूर्ण उद्योगों में गिना जाता था। देश तथा विदेश में उसकी विस्तृत माँग थी। रेशमी वस्त्रों, मलमल, कैलिको, लिनन, ऊनी तथा सूती वस्त्रों का बहुत बड़े परिमाण में उत्पादन होता था। रेशम की बुनाई का एक केन्द्र पश्चिम भारत भी था। हो सकता है कि परवर्ती गुप्तकाल में रेशम का उत्पादन घट गया हो क्योंकि पश्चिमी भारत में रेशम के बुनकरों की एक महत्त्वपूर्ण श्रेणी के अनेक सदस्यों ने अपना पारम्परिक व्यवसाय छोड़कर दूसरे व्यवसाय को अपना लिया था। हाथी दांत का व्यवसाय अधिक लाभकर था और इसी प्रकार पत्थर की कटाई तथा खुदाई का व्यवसाय भी क्योंकि इस समय मूर्तियों की माँग बहुत अधिक थी । लौह तथा इस्पात उद्योग बहुत प्रगति पर था।
महरौली (दिल्ली) स्थित गुप्तकालीन लौह स्तम्भ इस बात का ज्वलन्त प्रमाण है कि गुप्तकाल में भारत के लोग अत्यधिक बढ़िया किस्म के लौह तथा धातुओं की वस्त निर्मित करने में कुशल थे । तरह-तरह के खनिज पदार्थ जैसे सोना,चॉदी, तांबा आदि का भी लोगों को ज्ञान हो चुका था। ताँबा ताम्रपत्र, बर्तन और सिक्के के काम आता था। बाराहमिहिर की वृहतसहिंता” में हीरा, मोती, रूबी तथा शंख इत्यादि की बनी वस्तुओं का कई बार उल्लेख आया है। पशुपालन भी जीविका का एक प्रमुख साधन एवं व्यवसाय था। गुप्तकाल में नालन्टा, वैशाली आदि स्थानों में श्रेष्ठियों, सार्थवाहों, प्रथम कुलिकों कलिकों इत्यादि की मह शिल्पियों की संघटनात्मक गतिविधियों को अन्य सामाजिक हित के कार्य भी करने पड़ते थे जैसे सभागृहों का निर्माण, यात्रियों के लिए पानी की सुविधा जुटाना तथा आश्रमगृहों, मन्दिरों, बार्गों का निर्माण करना आदि ।

गुप्तकाल में व्यापार - 

गुप्तकाल में व्यापार के क्षेत्र में भी कुछ उल्लेखनीय तथ्य सामने आए। उदाहरण के लिए विरुपात इतिहासकार रामशरण शर्मा के अनुसार इस काल में हम विदेश व्यापार में हास पाते हैं।
Share:
Copyright © Abc Blogging | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com