Tuesday, August 11, 2020

Career in चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए)


 एक उक्तिहै नो नॉलेज,विदाउट कॉलेज, लेकिन कॉमर्स स्ट्रीम में बारहवीं के बाद कुछ ऐसे अवसर उपलब्ध हैं जो इसे गलत साबित कर देते हैं। सीए (चार्टर्ड एकाउंटेंट), सीएस (कंपनी सेक्रेटरी) तथा कास्ट एंड वर्क एकाउंटेंट एकाउंट क्षेत्र के सर्वोच्च प्रोफेशन हैं। इन तीनों ही क्षेत्रों में जाने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण की शुरुआत 10+2 के बाद ही शुरू हो जाती है। कॉमर्स के छात्रों के लिए तो यह बेहतर विकल्प है ही, सांइस व आ‌र्ट्स के छात्र भी इसकी पढ़ाई कर कॉरपोरेट व‌र्ल्ड की चकाचौंध भरी दुनिया का हिस्सा बन सकते हैं।

चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए)

सीए की सेवाएं किसी भी व्यावसायिक फर्म, कंपनी और उद्योग आदि में वित्तीय लेखा-जोखा की आवधिक जांच, अनुसरण, अंकेक्षण और व्याख्या के लिए जरूरी है। सीए को लेखा तथा वित्तीय सेवा में सलाह व प्रबंधकीय कार्यो के लिए सर्वोत्तम माना जाता है। इस क्षेत्र में रोजगार के वर्तमान अवसरों के बारे में आईसीएआई के सचिव डॉ. अशोक हल्दिया बताते हैं कि बदलते आर्थिक माहौल में सीए के लिए अवसरों की कमी नहीं है। ट्रेड, इंडस्ट्री, पब्लिक व प्राइवेट सेक्टर कहीं भी वह काम कर सकता है। निजी प्रैक्टिस में भी बेहतर संभावनाएं हैं। सीए बनने के लिए इंस्टीटयूट्स ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) की परीक्षा पास करनी होती है जो वर्ष में दो बार मई और नवंबर में होती है। बारहवीं के बाद आईसीएआई की पांच क्षेत्रीय परिषदों में से किसी एक में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। अलग-अलग प्रांतों के लिए क्षेत्रीय परिषदें हैं।

सीए की पढ़ाई के लिए पहले 10-10 माह के प्रोफेशनल एजुकेशनल कोर्स, पीई-1 और पीई-2 की परीक्षा पास करनी होती है। पीई-1 में चार प्रश्नपत्रों की और पीई-2 में छह प्रश्नपत्रों की परीक्षा देनी होती है। इसके बाद फाइनल परीक्षा होती है जिसमें आठ प्रश्नपत्र होते हैं। पीई-2 और फाइनल परीक्षा के बीच आवेदक को किसी भी मान्य सीए संस्थान में तीन वर्षीय आर्टिकलशिप के लिए पंजीकरण कराना होता है। इस दौरान स्टाइपेंड भी मिलता है। इसके अलावा 250 घंटों का कंप्यूटर प्रशिक्षण भी लेना होता है। इसके बाद फाइनल कोर्स की परीक्षा दी जा सकती है। सभी परीक्षाएं पास करने के बाद संस्थान द्वारा निर्धारित व्यावसायिक प्रशिक्षण लेना होता है। इसके बाद उसे आईसीएआई की सदस्यता दे दी जाती है। इसके बाद वह स्वतंत्र प्रैक्टिस के लिए या किसी निजी, अ‌र्द्ध-सरकारी या सरकारी संस्थान में जॉब के लिए स्वतंत्र होता है।

कंपनी सेक्रेटरी (सीएस)

सीएस को किसी कंपनी की तमाम प्रमुख गतिविधियों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां निभानी होती हैं। सचिव के दायित्वों के अलावा वित्त, लेखा, विधि-प्रशासन और कार्मिक गतिविधियों से जुड़े महत्वपूर्ण निर्णय भी सीएस को लेने होते हैं। वह कंपनी, निदेशक, सरकार और शेयरधारकों के बीच एक महत्वपूर्ण कड़ी होता है। उसे कंपनी एक्ट, सिक्योरिटी एक्ट,एक्जिम (आयात-निर्यात) पॉलिसी, विदेशी मुद्रा विनियमन कानून (एफईआरए), संपत्ति आयकर अधिनियम और केंद्रीय आबकारी अधिनियम के अंतर्गत कई जिम्मेदारियां भी निभानी होती हैं। कंपनी सचिव के लिए इंस्टीटयूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया (आईसीएसआई) की परीक्षा पास करनी होती है। आईसीएसआई के सचिव आर के जैन बताते हैं कि जब कोई कंपनी सचिव बनता है तो वह हाईप्रोफेशनल्स के बीच रहता है। उसका वेतन 10-15 हजार से शुरू ही होता है। अगर वह मेहनती है तो एमडी और सीईओ के पद तक जा सकता है।

सीएस के लिए फाउंडेशन, इंटरमीडिएट और फाइनल कोर्स की तीन परीक्षाएं उत्तीर्ण करनी होती हैं। 10+2 के बाद अभ्यर्थी फाउंडेशन कोर्स के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकता है। आठ माह के इस कोर्स में कुल पांच पेपर होते हैं। आईसीएसआई में रजिस्ट्रेशन पूरे वर्ष चलता है। मार्च तक प्रवेश लेने वाले प्रत्याशी उसी वर्ष दिसंबर में और सितंबर तक प्रवेश प्राप्त प्रत्याशी आगामी जून की परीक्षा में शामिल होने की पात्रता रखते हैं।

रजिस्ट्रेशन पांच वर्ष की अवधि के लिए किया जाता है और इस दौरान उन्हें इंटरमीडिएट के साथ-साथ फाइनल परीक्षा भी उत्तीर्ण करनी होती है। फाउंडेशन के बाद इंटरमीडिएट परीक्षा में दो विषय समूहों से 4-4 प्रश्नपत्रों (कुल 8) की परीक्षा देनी होती है। इस कोर्स की अवधि एक साल है। फाइनल कोर्स भी एक साल का होता है। इसमें तीन विषय समूहों से कुल नौ (प्रत्येक से तीन-तीन) प्रश्नपत्रों की परीक्षा देनी होती है। इसमें सफल होने के बाद अभ्यर्थी को किसी कंपनी में 15 माह का व्यावहारिक प्रशिक्षण लेना होता है। इस दौरान उसे स्टाइपेंड भी मिलता है। व्यावहारिक प्रशिक्षण सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद उम्मीदवार को आईसीएसआई का एसोसिएट मेंबर बनाया जाता है और कंपनी सचिव का प्रमाण पत्र प्रदान कर दिया जाता है। इसके बाद वह कहीं भी जॉब या प्रैक्टिस के योग्य होता है।

कास्ट एंड वर्क एकाउंटेंट

कास्ट एंड वर्क एकाउंटेंट प्रबंधन का महत्वपूर्ण पद है। उसे संतुलित बजट बनाने की योजना का निर्माण, मानकों का निर्धारण, कार्य एजेंसियों की क्षमता और वैल्यू एडिसन का मूल्यांकन एवं सेवा प्रबंधन की समीक्षा करनी होती है। इसके अलावा उत्पादों के मूल्य, उत्पादन योजना, संपत्ति सूची नियंत्रण, लाभांश, आय-व्यय आदि से संबंधित लेखा-जोखा का दायित्व भी कास्ट एकाउंटेंट के ऊपर होता है।

आईसीडब्ल्यूएआई के वाइस प्रेसिडेंट यूके शुक्ला कास्ट एकाउंटेंसी को आज के प्रतिस्पर्धा के दौर में काफी महत्वपूर्ण मानते हैं। खुली अर्थव्यवस्था के मार्केट में आज भारी प्रतिस्पर्धा है। ऐसे में कास्ट की अहम भूमिका हो जाती है। इसी कारण कास्ट कंट्रोल के लिए सभी कंपनियों में कास्ट एकाउंटेंट रखे जाते हैं। इसे कैरियर के रूप में अपनाने के लिए आईसीडब्ल्यूएआई की तीन स्तरीय- फाउंडेशन, इंटरमीडिएट और फाइनल परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है। बारहवीं के बाद छात्र फाउंडेशन कोर्स में नामांकन ले सकते हैं। पूरे पाठयक्रम में बीस प्रश्नपत्रों की परीक्षा देनी होती है। फाउंडेशन के चार, इंटरमीडिएट के आठ और फाइनल के आठ पेपरों की परीक्षा पास करने के बाद वह कॉस्ट एंड वर्क एकाउंटेंट के रूप में कार्य करने के योग्य हो जाता है।

संस्थान

सीए
सीएआईसीएआई मुख्यालय इंद्रप्रस्थ मार्ग, पोस्ट बॉक्स नं-7100, नई दिल्ली-110002 फोन : 011-23370055, 23370740,23370916 ई-मेल : icaidelhi@vsnl. com

सीएआईसीएआई की क्षेत्रीय परिषदें :
1. डब्ल्यूआईआरसी (पश्चिम भारत क्षेत्रीय परिषद) अन्वेषक, 27 कफ परेड, पो. बॉक्स-6081, कोलाबा, मुंबई, फोन: 022-22183122/23/24/25 ई-मेल : icaimbmb@bom 3.vsnl. net.in
2. ईआईआरसी (पूर्वी भारत क्षेत्रीय परिषद), 7, रसेल स्ट्रीट कोलकाता - 5700071, फोन : 033-22290402, ई-मेल: icaical@ giasc10. vsnl.net.in
3. एसआईआरसी (दक्षिणी क्षेत्रीय परिषद) 122, महात्मा गांधी रोड, ननगम्बकम, पो. बाक्स न. 3314, चेन्नई, फोन : 044-22850456/7, 28330410, ई-मेल: icaichen@md2.vsnl. net.in
4. सीआईआरसी (मध्य भारत क्षेत्रीय परिषद), 16/77 सिविल लाइंस, पो. बॉक्स न. 314, कानपुर, फोन: 0512-2368642, 2311048, 2303952, ई-मेल: icaiknp@Iw1.vsnl.net.in
5. एसआईआरसी (उत्तर भारत क्षेत्रीय परिषद्), 52-54, इंस्टीटयूशनल एरिया, विश्वास नगर, कड़कड़डूमा कोर्ट के निकट, नई दिल्ली, फोन : 011-22303025, ई-मेल : vohra@icai.org

सीएस
आईसीएसआई मुख्यालय आईसीएसआई हाउस, 22 इंस्टीटयूशनल एरिया, लोधी रोड, नई दिल्ली-110003, फोन : 011-51504444/4668, 24644431-32,  ई-मेल: info@icsi.edu

आईसीएसआई की क्षेत्रीय परिषदें :
1. एनआईआरसी (उत्तर भारत क्षेत्रीय परिषद) प्लॉट न.-4, प्रसाद नगर, इंस्टीटयूशनल एरिया (राजेंद्र प्लेस के निकट), नई दिल्ली-110005 फोन: 011-25763090/7190, 25816593, ई-मेल: niro@icsi.edu
2. एसआईआरसी (दक्षिण भारत क्षेत्रीय परिषद), नया नं. 9 (पुराना-4) व्हीट क्राफ्ट्स रोड, ननगम्बकम, चेन्नई-600034, फोन : 044-28295644, 28279898, 28268685, ई-मेल : iesisirc@md3 .vsnl.net.in
3. ईआईआरसी (पूर्वी भारत क्षेत्रीय परिषद) ए-3, अहीर पुकुर पहली लेन, बेक बगान नर्सिग होम के पीछे, कोलकाता-700001, फोन : 033-22871873, 22816541  ई-मेल:icsieirc@cal2.vsnl. net.in
4. डब्ल्यू आईआरसी (पश्चिम भारत क्षेत्रीय परिषद) 13, जौली मेकर चैंबर नं. 2 (प्रथम तल), नरीमन प्वाइंट, मुबंई-400021 फोन : 022-22021826, 22844073, ई-मेल :wircicsi@ bom5.vsnl.ne t.in

आईसीडब्ल्यूएआई 
आईसीडब्ल्यूएआई मुख्यालय डायरेक्टर (स्टडीज), 12, सदर स्ट्रीट, कोलकाता -700016, फोन: 033 - 22441031/ 34/35, 22450602 / 0492 

आईसीडब्ल्यूएआई की क्षेत्रीय परिषदें
1. ईआईआरसी, 84 हरीश मुखर्जी मार्ग, कोलकाता-700025  फोन: 033-24555957 ई-मेल:eirc.oficwai@redif fmail.com
2. एनआईआरसी, 3 इंस्टीटयूशनल एरिया, लोधी रोड, नई दिल्ली-110003 फोन: 011-24615788, 24626678,  ई-मेल: icwai_mirc@ hotmail. com
3. एसआईआरसी, 4 (पुराना नं. 65) मॉन्टिएथ, एंग्मोर चेन्नई, फोन: 044-28554443/4326/ 2872/2772 ई-मेल:sircicwai@giasmd0 1.vsnl.net.in
4. डब्ल्यू आईआरसी रोहित चैंबर्स, जन्मभूमि मार्ग, मुंबई फोन: 022-22872010, 22043416 06, 2284-1138, ई-मेल: wircicwa@bom3. vsnl.net .in